Navratri 9th Day Maha Navami 2023: महानवमी पर करें मां सिद्धिदात्री की पूजा। जानें शुभ मुहूर्त, कन्या पूजन, हवन, पूजा और विसर्जन

Navratri 9th Day Maha Navami 2023: नवरात्रि, हिन्दू धर्म के एक महत्वपूर्ण त्योहार है जो मां दुर्गा की पूजा के रूप में मनाया जाता है। यह नौ दिनों तक चलने वाला त्योहार है, जिसमें हर दिन को अलग-अलग रूप और विशेषता के साथ मनाया जाता है। नवरात्रि के नौवे दिन शुभ मुहूर्त, पूजा की विधि (Puja Vidhi), मंत्र और किस चीज भोग माता को अर्पित करें, आरती और कथा जानेगे सब कुछ।

खबरें व्हाट्सएप पर पाने के लिए जुड़े Join Now
खबरें टेलीग्राम पर पाने के लिए जुड़े Join Now
खबरे फेसबुक पर पाने के लिए जुड़े Join Now

इस दिन का महत्व (Navratri 9th Day Maha Navami 2023 Importance)

नवरात्र की इस नवमी तिथि को महानवमी भी कहते है। महानवमी नवरात्र का अंतिम दिन है। इस दिन मां दुर्गा के सिद्धिदात्री स्वरूप की पूजा और आराधना की जाती है। जिनके बारे में माना जाता है कि उन्होंने इस दिन अपनी पूर्ण दिव्य शक्ति प्रकट की थी। यह वह दिन भी है जब मां दुर्गा ने राक्षस महिषासुर को हराया था जो बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। मानते है कि देवी सिद्धिदात्री की पूजा मात्र से भक्तों के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं और साधक को अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। ऐसे में शारदीय नवरात्र पर मां सिद्धिदात्री की पूजा और जाप करना विशेष फलदायी होता है। इससे जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहती है।

Navratri 9th Day Maha Navami 2023
Navratri 9th Day Maha Navami 2023

मां सिद्धिदात्री का स्वरूप (Navratri 9th Day Maha Navami 2023 Maa Siddhidatri)

मां सिद्धिदात्री चार भुजाओं वाली हैं. इनका वाहन सिंह है. ये कमल पुष्प पर भी आसीन होती हैं. इनकी दाहिनी तरफ के नीचे वाले हाथ में कमलपुष्प है. प्रत्येक मनुष्य का यह कर्तव्य है कि वह मां सिद्धिदात्री की कृपा प्राप्त करने का निरंतर प्रयत्न करें. उनकी आराधना की ओर अग्रसर हो. इनकी कृपा से अनंत दुख रूप संसार से निर्लिप्त रहकर सारे सुखों का भोग करता हुआ वह मोक्ष को प्राप्त कर सकता है. मान्यता है कि पूजा के दौरान अगर आरती और मंत्र नहीं पढ़ी जाती है तो मां सिद्धिदात्री की पूजा अधूरी रह जाती है

यह भी देखे  5th day of navratri 2023: नवरात्र के पांचवें दिन मां स्कंदमाता की कृपा पाने के लिए जानिए कथा, पूजा विधि, मंत्र और भोग

मां सिद्धिदात्री की कथा (Navratri 9th Day Maha Navami 2023 Maa Siddhidatri Katha)

माता ने प्रकट होकर ब्रह्मा, विष्णु और महेश को जन्म दिया। पुराणों के अनुसार भगवान शिव शंकर को भी मां सिद्धिदात्री की कृपा से ही सिद्धि प्राप्त हुई थी। सिद्धिदात्री की कृपा से शिव का आधा शरीर देवी का हो गया। इसी कारण इसे अर्धनारीश्वरी भी कहा जाता है। इस दिन देवी की पूजा करने से व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है। देवी के इस रूप की पूजा व्यक्ति को अमरता के मार्ग पर ले जाती है। नवमी के दिन भक्त देवी मां की पूजा करने के बाद कन्याओं को भोजन कराते हैं। ऐसा माना जाता है कि कन्या पूजन से ही उनकी आराधना माँ स्वीकार करती है।

यह भी देखे  Chhath Puja Kosi Bharne ki Vidhi: छठ पूजा कोसी कैसे भरते हैं? छठ पूजा कोसी क्यों भरा जाता है?

मां सिद्धिदात्री पूजन शुभ मुहूर्त (Navratri 9th Day Maha Navami 2023 Pooja Shubh Muhurt)

नवमी तिथि प्रारंभ – 22 अक्टूबर 2023 शाम 07:58 बजे से
नवमी तिथि का समापन – 23 अक्टूबर शाम 05:44 बजे।

पूजा का शुभ मुहूर्त

सुबह- 06 बजकर 27 मिनट से 07 बजकर 51 मिनट तक
दोपहर- 01 बजकर 30 मिनट से 02 बजकर 55 मिनट तक

मां सिद्धिदात्री का प्रिय पुष्प व रंग (Navratri 9th Day Maha Navami 2023 Colour)

मां की चार भुजाओं में गदा, चक्र, डमरू और कमल का फूल शामिल है। माँ को बैंगनी रंग बहुत पसंद है। कहा जाता है कि इस दिन देवी मां को नौ प्रकार के फूल और मिठाइयां अर्पित की जाएं तो वह तुरंत प्रसन्न होती हैं और भक्तों की सभी चिंताओं को दूर कर देती हैं।

मां सिद्धिदात्री का भोग (Navratri 9th Day Maha Navami 2023 Bhog and Prasad)

माता सिद्धिदात्री को विभिन्न प्रकार के अनाज अर्पित करने से माता का आशीर्वाद प्राप्त होता है। और पक्षियों को सात दाने खिलाना भी अच्छा होता है।

मां सिद्धिदात्री पूजा विधि (Navratri 9th Day Maha Navami 2023 Maa Siddhidatri Puja Vidhi)

  • देवी पार्वती के सिद्धिदात्री स्वरूप की पूजा सुबह और शाम दोनों समय करना शुभ माना जाता है।
  • माता की इस रूप की पूजा करने के लिए सबसे पहले सुबह स्नान करके सफेद कंबल बिछाकर आसन पर बैठें।
  • माता सिद्धिदात्री या देवी दुर्गा की छवि स्थापित करें, गंगाजल छिड़कें और सबसे पहले देवी को कुमकुम का तिलक लगाएं।
  • सबसे पहले भगवान गणेश की पूजा करें और नवग्रह को फूल अर्पित करें।
  • इसके बाद देवी को धूप, दीप, फल, फूल, भोग और नवैद्य अर्पित करें।
  • फिर दुर्गा सप्तशती और दुर्गा चालीसा का पाठ करें और अंत में मां सिद्धिदात्री की आरती करें।
  • फिर माता को भोग में काले चने का भोग अवश्य लगाएं।
  • नवमी के दिन कन्या पूजन का भी विशेष महत्व होता है। इस दिन कन्या पूजन भी करें।
यह भी देखे  Sankashti Chaturthi 2023: 3 सितंबर को ?? जानिए शुभ समय, पूजा-विधि, व्रत-कथा और चंद्रोदय !!

महानवमी कन्या पूजन विधि (Navratri 9th Day Maha Navami 2023 Kanya Pujan Vidhi)

मां सिद्धिदात्री मंत्र जाप (Navratri 9th Day Maha Navami 2023 Maa Siddhidatri Mantra)

या देवी सर्वभूतेषु मां सिद्धिदात्री रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

मां सिद्धिदात्री की आरती (Navratri 9th Day Maha Navami 2023 Maa Siddhidatri Aarti)

जय सिद्धिदात्री माँ तू सिद्धि की दाता।
तू भक्तों की रक्षक तू दासों की माता॥

तेरा नाम लेते ही मिलती है सिद्धि।
तेरे नाम से मन की होती है शुद्धि॥

कठिन काम सिद्ध करती हो तुम।
जब भी हाथ सेवक के सिर धरती हो तुम॥

तेरी पूजा में तो ना कोई विधि है।
तू जगदम्बें दाती तू सर्व सिद्धि है॥

रविवार को तेरा सुमिरन करे जो।
तेरी मूर्ति को ही मन में धरे जो॥

तू सब काज उसके करती है पूरे।
कभी काम उसके रहे ना अधूरे॥

तुम्हारी दया और तुम्हारी यह माया।
रखे जिसके सिर पर मैया अपनी छाया॥

सर्व सिद्धि दाती वह है भाग्यशाली।
जो है तेरे दर का ही अम्बें सवाली॥

हिमाचल है पर्वत जहां वास तेरा।
महा नंदा मंदिर में है वास तेरा॥

मुझे आसरा है तुम्हारा ही माता।
भक्ति है सवाली तू जिसकी दाता॥

About Author

Navratri 9th Day Maha Navami 2023: महानवमी पर करें मां सिद्धिदात्री की पूजा। जानें शुभ मुहूर्त, कन्या पूजन, हवन, पूजा और विसर्जनमेरा नाम रोचक है और मुझे गर्व है कि मैं पांच साल से समाचार पत्रकारी का कार्य कर रहा हूँ। मेरा उद्देश्य हमेशा सत्य और न्याय की ओर बढ़ते जाने का है, और मैं खबरों को लोगों तक सटीकता और जानकारी के साथ पहुंचाने का संकल्प रखता हूँ।

मेरी पत्रकारिता के पाँच साल में, मैंने विभिन्न क्षेत्रों में रिपोर्टिंग की है, जैसे कि राजनीति, सामाजिक मुद्दे, विशेष खबरें, और व्यक्तिगत इंटरव्यू। मेरे काम का मूल मंत्र है कि सच्चाई को बिना जांचे बिना शरणागति दिए हर बार प्रकट किया जाना चाहिए।