Dussehra 2023 Ravan Dahan: यहाँ रावण जलाना मना है, जानिए क्यों?

Dussehra 2023 Ravan Dahan: दशहरा, जिसे विजयादशमी के नाम से भी जाना जाता है, भारत में सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है, जो बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। यह भव्य जुलूसों, रामायण के पुनर्मूल्यांकन और राक्षस राजा रावण के पुतलों को जलाने (Dussehra 2023 Ravan Dahan) के साथ मनाया जाता है। हालाँकि, रावण का पुतला जलाने (Dussehra 2023 Ravan Dahan) की व्यापक परंपरा के बीच, भारत में कई स्थान ऐसे हैं जहाँ कथा एक अलग मोड़ लेती है। इन क्षेत्रों में लोग रावण को जलाने के बजाय उसकी पूजा करना पसंद करते हैं। यह अनूठी प्रथा भारत के कई जगहों पर है, चलिए जानते हैं उनके बारे में।

खबरें व्हाट्सएप पर पाने के लिए जुड़े Join Now
खबरें टेलीग्राम पर पाने के लिए जुड़े Join Now
खबरे फेसबुक पर पाने के लिए जुड़े Join Now
 Dussehra 2023 Ravan Dahan

मंदसौर, मध्य प्रदेश:

मध्य प्रदेश के मध्य में मंदसौर शहर रावण के लिए एक विशेष स्थान रखता है। मंदसौर, की जड़ें रामायण की पौराणिक कथाओं में हैं। ऐसा माना जाता है कि मंदसौर रावण की पत्नी मंदोदरी का मायका था। इसी के चलते मंदसौर के निवासियों में रावण की पूजा करने की परंपरा है। उनका पुतला जलाने (Dussehra 2023 Ravan Dahan) के बजाय, वे रावण और अपने शहर के साथ उनके संबंधों के प्रति सम्मान दिखाते हैं।

यह भी देखे  Navratri 8th Day 2023: नवरात्रि के आठवें दिन होगी मां महागौरी की पूजा। जानें शुभ मुहूर्त, कन्या पूजन, पूजा विधि, मंत्र, रंग, भोग, आरती और कथा

अमरावती, महाराष्ट्र:

महाराष्ट्र के अमरावती में एक आदिवासी समुदाय रावण की पूजा करने की अनोखी परंपरा का पालन करता है। वे फाल्गुन उत्सव के दौरान एक विशेष उत्सव मनाते हैं, जहाँ रावण को उनका देवता माना जाता है। यह प्रथा भारत के भीतर मान्यताओं और प्रथाओं की विविधता को प्रदर्शित करती है।

बिसरख, उत्तर प्रदेश:

उत्तर प्रदेश का एक गांव बिसरख, रावण के प्रति अपनी अपरंपरागत श्रद्धा के लिए प्रसिद्ध है। ऐसा माना जाता है कि यह गाँव रावण का ननिहाल है, और इस अनोखे संबंध के परिणामस्वरूप रावण के पुतले को जलाने (Dussehra 2023 Ravan Dahan) की प्रथा के बजाय उसकी पूजा की जाती है। पूर्व में विश्वेशरा के नाम से जाने जाने वाले इस गांव का नाम बदलकर बिसरख कर दिया गया था।

बैजनाथ, हिमाचल प्रदेश:

हिमाचल प्रदेश में कांगड़ा जिले में बैजनाथ एक ऐसी जगह है जहां रावण को एक अलग कारण से पूजा जाता है। किंवदंती है कि रावण ने इस स्थान पर तपस्या की थी और परिणामस्वरूप, भगवान शिव ने उसे वरदान दिया था। इस पौराणिक घटना के सम्मान में, बैजनाथ में लोग रावण का सम्मान करते हैं और उसके पुतले को आग (Dussehra 2023 Ravan Dahan) नहीं लगाई जाती है।

काकीनाडा, आंध्र प्रदेश:

आंध्र प्रदेश के काकीनाडा शहर में रावण की पूजा करने की अनोखी प्रथा है। इस क्षेत्र में लोग रावण की भगवान शिव के प्रति भक्ति का जश्न मनाते हैं। रावण को समर्पित एक मंदिर उसके प्रति उनके सम्मान का प्रमाण है।

यह भी देखे  भादौ का महीना 31 अगस्त से 29 सितंबर तक: इस महीने 18 दिन तीज त्योहार हैं। भाद्रपद भगवान गणेश, श्रीकृष्ण और विष्णु की पूजा का महीना है।

जोधपुर, राजस्थान:

राजस्थान अपनी जीवंत परंपराओं और त्योहारों के लिए प्रसिद्ध है, और जोधपुर भी इसका अपवाद नहीं है। जोधपुर में, एक मंदिर रावण को समर्पित है, और कुछ विशेष समाज के लोग उसे एक विद्वान ब्राम्हण और भगवान शिव के भक्त के रूप में पूजते है। रावण पर यह अलग नजरिया राज्य के भीतर मान्यताओं और प्रथाओं की विविधता को दर्शाता है।

कोलार, कर्नाटक:

कर्नाटक के कोलार में एक आबादी है जो भगवान शिव की महान भक्ति के कारण रावण का सम्मान करती है। यहां रावण को विद्वान और शिव भक्त माना जाता है और लोग उसके गुणों के प्रति सम्मान दिखाते हैं।

दक्षिणी भारत:

तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और केरल सहित भारत के दक्षिणी क्षेत्रों में दशहरे के दौरान रावण की विशेष रूप से पूजा की जाती है। लोगों का मानना है कि रावण बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है और उसके पुतलों को जलाने (Dussehra 2023 Ravan Dahan) के बजाय, वे उन्हें जल निकायों में विसर्जित करते हैं, जो नकारात्मकता के अंत का प्रतीक है। यह प्रथा दक्षिणी राज्यों में परंपराओं की विविधता को दर्शाती है।

जसवन्तनगर, उत्तर प्रदेश:

उत्तर प्रदेश के जसवन्तनगर में दशहरे पर एक अनोखी परंपरा निभाई जाती है। भक्ति भाव से रावण की आरती की जाती है। हालाँकि, समारोह के बाद, उनके पुतले को जलाया (Dussehra 2023 Ravan Dahan) नहीं जाता बल्कि टुकड़ों में तोड़ दिया जाता है, जो बुराई के अंत का प्रतीक है। इसके बाद लोग रावण के टुकड़ों को घर ले जाते हैं और तेरहवे दिन रावण की तेरहवीं भी करते है।

यह भी देखे  Pitru Paksha 2023: 29 सितंबर से शुरू गलती से पहले जानिए तिथि, श्राद्ध विधि और उपाय विस्तार से !!!

निष्कर्ष:

भारत की सांस्कृतिक परंपराओं में विविधता दशहरा उत्सव के दौरान रावण से संबंधित विरोधाभासी प्रथाओं के माध्यम से स्पष्ट रूप से प्रदर्शित होती है। जबकि कई क्षेत्र रावण के पुतले को जलाने (Dussehra 2023 Ravan Dahan) की प्रथा का पालन करते हैं, अन्य लोग उसकी पूजा करना चुनते हैं, जो इस पौराणिक चरित्र के साथ उनकी अनूठी मान्यताओं और सांस्कृतिक संबंधों को दर्शाता है। यह विविधता भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का उदाहरण देती है, जहां रीति-रिवाज और रीति-रिवाज विकसित और अनुकूलित होते हैं, जिससे परंपराओं की एक श्रृंखला बनती है जो साथ-साथ फलती-फूलती रहती है।

About Author

Dussehra 2023 Ravan Dahan: यहाँ रावण जलाना मना है, जानिए क्यों?नमस्कार, मेरा नाम प्रिया शर्मा है और मैं मूल रूप से बिहार की रहने वाली हूं। मैंने 2021 में ब्लॉगिंग शुरू की। मेरी पहली वेबसाइट किसी तरह क्रिप्टोकरेंसी से संबंधित थी। मुझे बचपन से ही ब्लॉग्गिंग में बहुत रुचि रही है और यह मेरा जुनून भी है। मैं इस क्षेत्र में 3 साल से काम कर रही हूं। अब, TajaNews24 की मदद से, मैं सभी नवीनतम समाचारों को प्रस्तुत करती हूं। धन्यवाद