Indian best horror movies hindi: भारतीय सिनेमा में तीन ऐसी फिल्में जिन्हे देखने के बाद लोगों की मौत हो गयी !!!

Indian best horror movies hindi: क्या आप जानते हैं कि हमारे भारतीय सिनेमा में तीन ऐसी फिल्में हैं और उन्हें देखने के बाद किन लोगों की मौत हुई? हाँ, वास्तविक जीवन में भी! ! !

खबरें व्हाट्सएप पर पाने के लिए जुड़े Join Now
खबरें टेलीग्राम पर पाने के लिए जुड़े Join Now
खबरे फेसबुक पर पाने के लिए जुड़े Join Now
Indian best horror movies hindi

Bhoot (2003) (Indian best horror movies hindi)

भूत 2003 में रिलीज हुई थी और यह बॉलीवुड की सबसे खतरनाक फिल्मों (Best Indian हॉरर फिल्म्स इन हिंदी) की लिस्ट में शामिल है। दिल्ली के एक थिएटर में जब सफ़ाईकर्मी सफ़ाई करने गए तो उन्हें एक 50 साल के व्यक्ति का शव मिला. वह आदमी एक दिन पहले शाम का आखिरी शो देखने आया था, लेकिन अगली सुबह मृत पाया गया। फिल्म के निर्देशक राम गोपाल वर्मा ने पहले चेतावनी दी थी कि यह फिल्म स्वास्थ्य के लिए खतरा पैदा कर सकती है।

यह भी देखे  3 राज्यों में BJP की जीत पर बौखलाई Kangana Ranaut। Rahul Gandhi को बोल दिया पप्पू पनौती।

Rangi Taranga (2019)

कन्नड़ मास्टरपीस रंगी तिरंगा 2015 में रिलीज़ हुई थी और इसने ऑस्कर भी जीता था। लेकिन एक दिन इंजीनियर अपनी पत्नी के साथ बेंगलुरु के एक सिनेमा हॉल में फिल्म देख रहे थे तभी उन्हें दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत की खबर मिली. मेरी पत्नी ने कहा कि वह थोड़ी असहज लग रही थी और जब मैंने उसे हिलाया तो उसने कुछ नहीं कहा, इसलिए उसने जवाब दिया कि उसने मेरे हिलाने पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। फिर वह तुरंत अस्पताल गए, जहां उन्हें दुखद खबर मिली।

Raju Gari Gadhi

तीसरी फिल्म है राजू गरी गढ़ी, यह एक कम बजट की फिल्म थी जिसने बॉक्स ऑफिस पर खूब कमाई की लेकिन थिएटर में फिल्म देखते समय एक 55 साल के व्यक्ति की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। फिल्म निर्माताओं की ओर से उनके परिवार वालों को एक लाख का मुआवजा भी मिला.

यह भी देखे  Urfi Javed arrested Reality सच या मजाक? मुंबई पुलिस ने उनके बोल्ड पहनावे को लेकर की कार्रवाई !!

About Author

Indian best horror movies hindi: भारतीय सिनेमा में तीन ऐसी फिल्में जिन्हे देखने के बाद लोगों की मौत हो गयी !!!मेरा नाम रोचक है और मुझे गर्व है कि मैं पांच साल से समाचार पत्रकारी का कार्य कर रहा हूँ। मेरा उद्देश्य हमेशा सत्य और न्याय की ओर बढ़ते जाने का है, और मैं खबरों को लोगों तक सटीकता और जानकारी के साथ पहुंचाने का संकल्प रखता हूँ।

मेरी पत्रकारिता के पाँच साल में, मैंने विभिन्न क्षेत्रों में रिपोर्टिंग की है, जैसे कि राजनीति, सामाजिक मुद्दे, विशेष खबरें, और व्यक्तिगत इंटरव्यू। मेरे काम का मूल मंत्र है कि सच्चाई को बिना जांचे बिना शरणागति दिए हर बार प्रकट किया जाना चाहिए।